Cover

जम्मू-कश्मीर के दूसरे उपराज्यपाल के रूप में सिन्हा ने ली शपथ, कहा-विकास, विश्वास बहाली, आतंकवाद उनके मुख्य लक्ष्य

श्रीनगर। भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व केंद्रीय रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने आज श्रीनगर राजभवन में केंद्र शासित जम्मू-कश्मीर प्रदेश के दूसरे उपराज्यपाल के तौर पर शपथ ग्रहण कर ली है। जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट की चीफ जस्टिस गीता मित्तल ने उन्हें पद एवं गोपनियता की शपथ दिलाई। सिन्हा पहले उपराज्यपाल जीसी मुर्मू का इस्तीफा मंजूर होने के बाद गत वीरवार दोपहर को ही नई कमान संभालने के लिए श्रीनगर पहुंच गए थे। केंद्र सरकार ने पहले उपराज्यपाल जीसी मुर्मू को नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (CAG) नियुक्त किया है।

शपथ ग्रहण करने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए सिन्हा ने कहा कि कश्मीर भारत का स्वर्ग है, मुझे यहां भूमिका निभाने का अवसर दिया गया है। 5 अगस्त एक महत्वपूर्ण तारीख है, जम्मू-कश्मीर मुख्यधारा में शामिल हुआ है। सालों बाद यहां कई परियोजनाएं शुरू हुईं, मेरी प्राथमिकता उन परियोजनाओं को आगे ले जाना होगा।

उपराज्यपाल सिन्हा ने कहा कि जम्मू-कश्मीर की आम जनता में विश्वास बहाली, आतंकवाद को समाप्त करना उनके मुख्य लक्ष्यों में शामिल है। आम जनता में सरकार के प्रति विश्वास मजबूत करने के लिए वह उनसे सीधी बात करने का प्रयास करेंगे। इस पर जल्द ही काम शुरू होगा। आम जनता अपनी परेशानियों को लेकर उन तक सीधा पहुंचे, इसकी व्यवस्था की जाएगी। आतंकवाद के खिलाफ जारी अभियान को तेज किया जाएगा। जम्मू-कश्मीर में फिर से शांति कायम करने के लिए हर संभव प्रयास किया जाएगा। उन्होंने प्रदेश की जनता को विश्वास दिलाया कि उन्हें सरकार की कार्यप्रणाली में किसी तरह का भेदभाव नजर नहीं आएगा। हरेक से सामान व्यवहार किया जाएगा। सरकारी अधिकारियों को भी इस विकास योजनाओं में तेजी लाने की हिदायत दे दी गई है।

आपको जानकारी हो कि गिरीश चंद्र मुर्मू के इस्तीफे के बाद वीरवार को ही 61 वर्षीय पूर्व केंद्रीय रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा को केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर का नया उपराज्यपाल बनाने पर मुहर लगा दी गई थी। मनोज सिन्हा दोपहर बाद श्रीनगर भी पहुंच गए थे। अनुच्छेद 370 की समाप्ति का एक साल पूरा होते ही जीसी मुर्मू के अचानक इस्तीफे ने जितना हैरान किया, उतना ही मनोज सिन्हा की नियुक्ति ने सभी को चौंकाया भी, क्योंकि बुधवार देर रात तक उनके नाम का कोई जिक्र नहीं था। अलबत्ता, वीरवार सुबह राष्ट्रपति कार्यालय से जारी एक आदेश के साथ ही सभी कयास बंद हो गए।

मनोज सिन्हा गत वीरवार दोपहर करीब पौने दो बजे दिल्ली से श्रीनगर एयरपोर्ट पहुंचे। जहां जम्मू-कश्मीर पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह और नागरिक प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने उनकी आगवानी की। उन्हें गार्ड ऑफ आॅनर भी दिया। इसके बाद सिन्हा ने कुछ वरिष्ठ नौकरशाहों और पुलिस अधिकारियों के साथ चंद मिनटों की एक बैठक कर हालात को समझा।

जम्मू-कश्मीर के पहले उपराज्यपाल जीसी मुर्मू ने गत बुधवार देर शाम को अपना इस्तीफा राष्ट्रपति को भेजा था। उनके इस्तीफे के बाद पूर्व केंद्रीय गृह सचिव राजीव महॢष, जम्मू कश्मीर के पूर्व पुलिस महानिदेशक अशोक प्रसाद, लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) सैयद अता हसनैन और जम्मू कश्मीर के पूर्व सुरक्षा सलाहकार के विजय कुमार के नाम अगले उपराज्यपाल के तौर पर लिए जा रहे थे। अलबत्ता, सुबह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जीसी मुर्मू के इस्तीफ पर मुहर लगाते हुए मनोज सिन्हा के रूप में नए उपराज्यपाल के नाम का उल्लेख किया तो सभी हैरान थे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy