Cover

बेंगलुरू में सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर भड़की हिंसा, 3 की मौत; CRPF और CISF तैनात

बेंगलुरु। बेंगलुरु में सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर हिंसा भड़क गई है। इस दौरान हालात को काबू करने के लिए पुलिस को फायरिंग भी करनी पड़ी, जिसमें दो लोगों की मौत हो गई। वहीं एक अन्य शख्स को घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अचानक भड़की हिंसा में 60 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। वहीं मामले में पुलिस ने अबतक 110 लोगों को गिरफ्तार किया है। हालात को देखते हुए इलाके में CRPF और CISF की कुछ कंपनियों को भी तौनात किया गया है। कर्नाटक के सीएम येदियुरप्‍पा ने घटना के पीछे जिम्‍मेदार लोगों के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई की बात कही है।

बेंगलुरू के डीजे हल्ली और केजी हल्ली पुलिस थाना इलाके में देर रात ये हिंसा हुई। जिसके बाद इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया है। इसके साथ ही बेंगलुरू में धारा 144 लगाई गई है। सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट शेयर करने के आरोपी नवीन को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस के मुताबिक अब स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। RAF, CRPF और CISF की कुछ कंपनियाों को भी तैनात किया गया है।

पुलिस ने सुनाई आपबीती

बेंगलुरु सिटी पुलिस कमिश्नर कमलकांत ने बताया कि फेसबुक पोस्ट के बाद लोग उस इलाके में इकट्ठा हो गए। हमारे ऑफिसर ने उन्हें हालात समझाने की कोशिश की। वो तत्काल गिरफ्तारी और अपने लिए सुरक्षा की मांग कर रहे ​थे। जब उन्हें समझाया गया कि ये इस तरह से नहीं हो सकता तो वो गुस्सा हो गए और पत्थरबाजी करने लगे। इस दौरान वाहनों में आग लगा दी गई और उन्हें ​क्षतिग्रस्त किया गया। एक ग्रुप बेसमेंट में गया और वहां करीब 200-250 वाहनों में आग लगा दी।

सरकार को पूरा समर्थन: शिवकुमार

बेंगलुरु हिंसा की की निंदा करते हुए कर्नाटक कांग्रेस के प्रमुख डीके शिवकुमार ने कहा कि हमारी पार्टी इस घटना की कड़ी निंदा करती है। मैंने आज हमारे विधायकों की बैठक बुलाई है। मैंने हमारे नेता सिद्धारमैया से बात की है, हम शांति और सद्भाव बनाए रखने के लिए सरकार को पूरा समर्थन देंगे।

अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई: येदियुरप्‍पा

उन्होंने कहा कि अपराधियों के खिलाफ आदेश जारी किए गए हैं और स्थिति पर काबू पाने के लिए सरकार ने सभी संभव कदम उठाए हैं। पत्रकारों, पुलिस, जनता पर हमला अस्वीकार्य है। सरकार ऐसे उकसावों और अफवाहों को बर्दाश्त नहीं करेगी। अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

दो थाना क्षेत्रों में जोरदार प्रदर्शन

इतने पर ही लोगों का गुस्सा कम नहीं हुआ और उन्होंने डीजे हल्ली और केजी हल्ली पुलिस थाना इलाके में जोरदार प्रदर्शन किया। बताया जा रहा कि इसी दौरान हंगामा बढ़ने पर पुलिस ने भीड़ को हटाने की कोशिश की, आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए। इसी बीच अचानक हिंसा भड़क उठी, जिसमें पुलिसकर्मियों को भी निशाना बनाया गया।

हिंसा के मामले 110 लोगों की गिरफ्तारी

हालात को काबू करने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स लगाई गई है। बेंगलुरू के ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर (क्राइम) संदीप पाटिल ने बताया कि कथित भड़काऊ सोशल मीडिया पोस्ट को लेकर भड़की हिंसा के सिलसिले में 110 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और भी गिरफ्तारियां की जा रही हैं।

उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी : कर्नाटक के गृहमंत्री

वहीं कांग्रेस विधायक के आवास पर हुई हिंसा के बाद कर्नाटक के गृह मंत्री बसवराज बोम्‍मई ने कहा कि मामले की जांच होनी चाहिए लेकिन बवाल किसी भी बात का हल नहीं है। अतिरिक्त बल तैनात किया गया है। उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

जानें- क्यों भड़की हिंसा

बता दें कि पूरा हंगामा एक भड़काऊ सोशल मीडिया पोस्ट की वजह से हुआ। दरअसल, बेंगलुरु में कांग्रेस विधायक श्रीनिवास मूर्ति के भतीजे ने सोशल मीडिया साइट फेसबुक पर कथित भड़काऊ पोस्ट किया था। हालांकि, बाद ये पोस्ट डिलीट भी कर दी गई। बावजूद इसके कथित भड़काऊ पोस्ट को लेकर बड़ी संख्या उपद्रवियों ने विधायक श्रीनिवास मूर्ति के बेंगलुरू स्थिति आवास पर हमला कर दिया और जमकर तोड़फोड़ की। इस दौरान आगजनी भी की गई। भीड़ ने पुलिस पर भी पथराव किया। भीड़ को काबू में करने के लिए पुलिस ने फायरिंग की। जिसके बाद इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy