Cover

Delhi Metro News: दिल्ली मेट्रो में डेबिट और क्रेडिट कार्ड से भुगतान कर सकेंगे यात्री, DMRC कर रहा तैयारी

नई दिल्ली।  दिल्ली-एनसीआर के लाखों यात्रियों की लाइफलाइन बन चुके दिल्ली मेट्रो में एक बड़ा और अहम बदलाव होने जा रहा है। इसके बाद यात्री डेबिट और क्रेडिट कार्ड से भुगतान करके मेट्रो ट्रेनों में सफर कर सकेंगे। ऐसे में मेट्रो कार्ड रखने से भी छुटकारा मिल जाएगा। आधुनिक सेवाओं से लैस होने की कड़ी में दिल्ली मेट्रो रेल निगम (Delhi Metro Rail Corporation) ऑटोमैटिक फेयर कलेक्शन सिस्टम (Automatic fair collection system) को अपग्रेड करने की कवायद में जुट गया है। DMRC ने इसके लिए टेंडर भी जारी कर दिया है। इसके पूरा होते ही यात्री दिल्ली मेट्रो की ट्रेनों में सफर के दौरान क्रेडिट कार्ड अथवा डेबिट कार्ड से यात्रा का भुगतान कर सकेंगे। यह सुविधा उन यात्रियों के लिए बेहद मुफीद है, जो डेबिट या क्रेडिट कार्ट से भुगतान को तरजीह देते हैं।

2 साल से भी कम समय में मिलने लगेगी सुविधा

माना जा रहा है कि 2 साल से भी कम समय में यह काम करने लगेगा। टिकटिंग मशीन को भी पीओएस मशीन के साथ इंटीग्रेट करेंगे, जिससे स्मार्ट कार्ड को डेबिट और क्रेडिट कार्ड से रिचार्ज कराने में भी आसानी होगी। यह सुविधा मिलने के बाद मेट्रो यात्रियों को स्मार्ट कार्ड रखने से छुटकारा मिल जाएगा। इसके बदले यात्री किराये के भुगतान के लिए डेबिट और क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कर पाएंगे। बता दें कि ज्यादातर लोग खरीदारी के लिए डेबिट या क्रेडिट कार्ड का ही इस्तेमाल करते हैं, उनके लिए यह राहत की खबर है। दिल्ली मेट्रो ने मेट्रो नेटवर्क किराए के मद्देनजर 32 जोन बनाए गए हैं, इसे बढ़ाकर 64 किया जाएगा।

दिल्ली मेट्रो अब पुराने आटोमैटिक फेयर कलेक्शन गेट को भी बदल रहा है। तकरीबन 600 एएफसी गेट बदले जा रहा है। दिल्ली मेट्रो में सबसे अधिक एएफसी गेट वाले स्टेशन नई दिल्ली व चांदनी चौक हैं, जहां पर 44 एएफसी गेट लगे हुए हैं। यहां पर भी लोगों को आधुनिक सेवाएं हासिल होंगी।

दिल्ली मेट्रो के फेज-4 के लिए चल रही कवायद

दिल्ली मेट्रो रेल निगम भविष्य में लोगों की सुविधा और सहूलियत को ध्यान में रखते हुए यह कवायद कर रहा है। यह वजह है कि मेट्रो फेज चार के 3 कॉरिडोर के मद्देनजर ऑटोमैटिक फेयर कलेक्शन सिस्टम को अपग्रेड किया जा रहा है। माना जा रहा है कि इसे प्वाइंट ऑफ सेल (Point of sale) के साथ इंटीग्रेट करने की तैयारी है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy