Cover

कोरोना संक्रमित UP के कैबिनेट मंत्री व पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर चेतन चौहान का निधन

लखनऊ। कोरोना संक्रमण के कारण बेहद गंभीर हालत में गुरुग्राम के मेदांता हॉस्पिटल में भर्ती योगी आदित्यनाथ सरकार के कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान का आज निधन हो गया। क्रिकेटर से नेता बने मंत्री चेतन चौहान के निधन पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुख जताया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान के निधन पर राजकीय शोक की घोषणा की है।

73 वर्षीय चेतन चौहान को लखनऊ के संजय गांधी पीजीआइ से शनिवार को ही मेदांता शिफ्ट किया गया था। वहां पर वह लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर थे। बताया जाता है कि उनकी किडनी काम नहीं कर रही है। योगी आदित्यनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान की हालत बेहद गंभीर थी। कोरोना संक्रमण पॉजिटिव के कारण लम्बे समय से संजय गांधी पीजीआइ में भर्ती रहे चेतन चौहान की किडनी ने काम करना बंद कर दिया था। उनको लखनऊ से गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में शिफ्ट किया गया है, जहां पर उनको लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था।

कोरोना वायर से संक्रमित उत्तर प्रदेश के होमगार्ड मंत्री चेतन चौहान को 11 जुलाई को कोरोना संक्रमण के कारण भर्ती कराया गया था। क्रिकेट में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान के पास सरकार में सैनिक कल्याण, होमगार्ड, पीआरडी और नागरिक सुरक्षा मंत्रालय हैं।

 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने सरकारी आवास 5-कालीदास मार्ग, लखनऊ पर कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान के निधन पर कैबिनेट की बैठक बुलाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

11 जुलाई को संजय गांधी पीजीआई में हुए थे एडमिट

11 जुलाई को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उनको संजय गांधी पीजीआई में एडमिट कराया गया था। इसके बाद किडनी और ब्लड प्रेशर की समस्या शुरू हो गईं। इसके बाद उन्हेंं वेंटिलेटर पर रखा गया था। अमरोहा से चेतन चौहान दो बार भाजपा के सांसद भी रहे हैं। चेतन चौहान भारतीय जनता पार्टी की राजनीति में लंबे समय से सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। चेतन चौहान भारतीय जनता पार्टी से लोकसभा सांसद भी रह चुके हैं। 1991 और 1998 के चुनाव में वह भाजपा के टिकट अमरोहा से सांसद बने थे। चेतन चौहान अभी अमरोहा जिले की नौगांवा सादात विधानसभा के विधायक हैं।

बिना शतक लगाए 40 टेस्ट खेलने वाले सलामी बल्लेबाज

चेतन चौहान ने टीम इंडिया के लिए 1969 से 1978 के बीच 40 टेस्ट खेले थे। इनमें उन्होंने 31.54 की एवरेज से 2084 रन बनाए। उनका बेस्ट स्कोर 97 रन रहा। चेतन ने 7 वनडे में 153 रन बनाए। चौहान और सुनील गावस्कर की ओपनिंग जोड़ी 1970 के दशक में काफी सफल रही थी। दोनों ने मिलकर 10 शतकीय साझेदारियां कीं और 3 हजार से ज्यादा रन बनाए। चेतन घरेलू क्रिकेट में दिल्ली और महाराष्ट्र की टीम से खेले थे। उन्होंने अपना पहला टेस्ट मैच 25 दिसंबर 1969 में न्यूजीलैंड टीम के खिलाफ खेला और 13 मार्च 1981 को अपना अंतिम टेस्ट मैच भी न्यूजीलैंड टीम के खिलाफ खेला था। चौहान ने 40 टेस्ट मैचों में 31.57 की औसत से 2084 रन बनाए थे और 2 विकेट भी हासिल करने के साथ 16 अर्ध शतक लगाए। उनकी 97 रनों की पारी उच्च स्कोर की पारी रही थी। सात एक दिवसीय मैच में 21.85 की औसत से 153 रन और 46 अधिकतम स्कोर रहा। चौहान ने अपना पहला एक दिवसीय मैच एक अक्टूबर 1978 को पाकिस्तान टीम के खिलाफ खेला था।

योगी आदित्यनाथ सरकार के दूसरे मंत्री 

वह योगी आदित्यनाथ सरकार के दूसरे मंत्री हैं, जिन्होंने कोरोना संक्रमण के कारण दम तोड़ा है। इससे पहले दो अगस्त को प्रदेश सरकार की प्राविधिक शिक्षा मंत्री कमल रानी वरुण ने संजय गंधी पीजीआई में दम तोड़ा था। मंत्री कमलरानी को पहले से ही डायबिटीज, हाइपरटेंशन व थायराइड से जुड़ी समस्या थी। उनका ऑक्सीजन लेवल काफी कम हो गया था। योगी आदित्यनाथ सरकार के छह मंत्री अभी भी लखनऊ के संजय गांधी पीजीआइ में भर्ती हैं। कैबिनेट मंत्री ब्रजेश के साथ ही जल शकित मंत्री डॉ. महेंद्र सिंह, राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह, उपेंद्र तिवारी, जय प्रताप सिंह व धर्म सिंह सैनी भी कोरोना संक्रमित थे।

 

 

शोक में भाजपा मुख्यालय में झंडा झुका

प्रदेश सरकार के सैनिक कल्याण, होमगार्ड, प्रांतीय रक्षक दल व नागरिक सुरक्षा मंत्री और पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान के निधन पर रविवार को भाजपा मुख्यालय में पार्टी का ध्वज झुका दिया गया। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह व महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल ने अपनी शोक संवेदनाएं व्यक्त करते हुए इसे कार्यकर्ताओं के लिए अपूर्णीय क्षति बताया। स्वतंत्र देव ने कहा कि अपने सतत परिश्रम से ही चेतन चौहान ने ख्यातिप्राप्त क्रिकेटर होने के साथ राजनीति में भी अपनी विशिष्ट पहचान बना ली थी। वह संवेदनशील, निष्ठावान व समर्पित कार्यकर्ता थे। प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने कहा कि चेतन चौहान ने सदैव जनकल्याण के लिए पूरी तत्परता से कार्य किया। उनके निधन से हुए नुकसान की भरपाई आसान नहीं है। परमात्मा उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें और परिवारीजनों को दुख सहन करने की शक्ति दें।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy