Cover

डब्ल्यूएचओ ने कहा, अब युवाओं से फैल रहा है कोरोना वायरस; हर्ड इम्यूनिटी को लेकर कही यह बात

मनीला। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने मंगलवार को कहा कि 20 से लेकर 40 साल के लोगों के जरिये कोरोना वायरस फैल रहा है। सबसे चिंता की बात ये है कि इन लोगों को पता ही नहीं है कि वे संक्रमित हैं। ऐसे लोग बुजुर्गों व रोगियों जैसे जोखिम वाले समूहों के लिए गंभीर खतरा बन रहे हैं। डब्ल्यूएचओ ने पश्चिमी प्रशांत देशों में कोरोना के प्रसार को लेकर चेतावनी दी है। साथ ही समूह प्रतिरक्षा को लेकर भी सतर्क किया है।

नए चरण में प्रवेश कर गई कोरोना महामारी 

डब्ल्यूएचओ के पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. तकेशी कसाई ने कहा, ‘महामारी बदल रही है। 20, 30 और 40 साल की उम्र तक के लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो रहे हैं और इनमें से ज्यादातर इससे अंजान हैं।’ पिछले कुछ दिनों में दुनियाभर में युवाओं के संक्रमित होने के मामले सामने आए हैं। कसाई ने कहा कि लगभग 1.9 अरब आबादी वाला पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र कोरोना महामारी के नए चरण में प्रवेश कर गया है। उन्होंने कहा, ‘यह वह चरण है जिसमें सरकारों को स्थायी रूप से संक्रमण के कई गुणा तक बढ़ने की चुनौती का सामना करना होगा।’ इस क्षेत्र में ऑस्ट्रेलिया, फिलीपीन और जापान समेत कई देश आते हैं, जहां पर 40 साल से कम उम्र के लोग वायरस का शिकार हो रहे हैं।

अपने हित को आगे रखने से बिगड़ रही स्थिति

जेनेवा में डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस अधनोम घेब्रेयेसस ने कहा कि कोरोना की संभावित वैक्सीन हासिल करने के लिए देश अपने हितों को आगे रख रहे हैं, इससे महामारी की स्थिति और बिगड़ रही है। उन्होंने कहा कि रणनीतिक और वैश्विक स्तर पर काम करना सभी देशों के हित में है। जब तक सभी सुरक्षित नहीं होंगे, कोई सुरक्षित नहीं होगा।

फिलहाल हर्ड इम्यूनिटी की उम्मीद नहीं

डब्ल्यूएचओ के आपातकालीन स्वास्थ्य सेवाओं के प्रमुख डॉ. माइकल रेयान ने कहा कि फिलहाल हर्ड इम्यूनिटी (सामूहिक रोग प्रतिरोधक क्षमता) की संभावना नहीं है। उन्होंने कहा कि हमें हर्ड इम्यूनिटी बनने की उम्मीद में नहीं रहना चाहिए। हर्ड इम्यूनिटी उस अवस्था को कहते हैं, जिसमें लगभग 70 फीसद आबादी में संक्रमण को मारने वाले एंटीबॉडीज बनते हैं। रेयान ने कहा कि अभी हम रोग प्रतिरोधक क्षमता के उस स्तर को हासिल करने में सफल नहीं हुए हैं, जो कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए जरूरी है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy