Cover

आयोग के सवालों से छूटे पुलिस के पसीने, पूछा-विकास पीछे के गेट से भागा! अच्छा… आप तो बेहोश थे

कानपुर। बिकरू कांड की जांच में सुप्रीम कोर्ट की ओर से गठित न्यायिक आयोग की टीम ने उन स्थलों का निरीक्षण किया जहां मुठभेड़ में चार अभियुक्त मारे गए। कांशीराम नेवादा गांव में अतुल दुबे और प्रेमप्रकाश के एनकांउटर स्थल पर जांच के बाद दोपहर करीब तीन बजे सचेंडी में भौती बाईपास के पास विकास दुबे के मुठभेड़ की जगह पर जांच की। टीम के सवालों से पुलिस के पसीने छूटते नजर आए।

आयोग ने लगाई सवालों झड़ी

आयोग के सदस्य के सवालों की झड़ी लगा दी। पूछा, गाड़ी कहां-कैसे पलटी, कितने लोग सवार थे? इस सवाल कि विकास कहां बैठा था? जवाब मिला- पीछे सीट पर बीच में। किसकी पिस्टल लेकर भागा? नवाबगंज थाना प्रभारी रमाकांत पचौरी बोले-सर, मेरी। आप किधर बैठे थे? थाना प्रभारी बोले-बाएं। आयोग के सदस्य ने अचरज जताया कि गाड़ी बायीं और ही पलटी थी, तब तो आपकी पिस्टल शरीर के नीचे दबी होगी, विकास दुबे ने इतनी जल्दी पिस्टल कैसे निकाल ली? थाना प्रभारी ने कहा- सर पता नहीं, मैं बेहोश हो गया था। अगला सवाल था कि विकास गाड़ी से बाहर कैसे आया? थाना प्रभारी ने तुरंत जवाब दिया-पीछे वाले दरवाजे से बाहर निकल कर भागा। इस पर आयोग के सदस्य बोले-अच्छा…आप तो बेहोश थे!

टोल के बाद मीडिया के वाहन क्यों रोके

आयोग ने ये भी सवाल किए कि उज्जैन से विकास को लेकर कब चले। गाड़ी कहां बदली। टोल के बाद मीडिया के वाहन क्यों रोके? एसटीएफ ने कहा कि टोल से जांच के बाद वाहन आगे बढ़ाए जाते हैं, इसमें पुलिस की भूमिका नहीं। न्यायिक आयोग के तीनों सदस्य सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त जज बीएस चौहान, उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी केएल गुप्ता, इलाहाबाद हाईकोर्ट के सेवानिवृत्त जज एसके अग्रवाल ने इससे पहले दोपहर करीब 12 बजे काशीराम निवादा में 20 मिनट तक जांच की। यहां पर अतुल दुबे और प्रेम शंकर का एनकाउंटर हुआ था। टीम ने पूछा कि दोनों बदमाश कहां छिपे थे।

अतुल और प्रेमशंकर का विकास से रिश्ता पूछा

आइजी मोहित अग्रवाल ने बताया कि सुनसान जंगल मे बने देवी मंदिर में छिपे थे। तत्कालीन एसएसपी दिनेश कुमार पी ने बताया कि घेराबंदी होते ही दोनों ने रायफल व पुलिस से लूटी पिस्टल से फायर करने शुरू कर दिए थे। दोनों का विकास दुबे से क्या रिश्ता था? एसएसपी प्रीतिंदर सिंह ने बताया कि अतुल दुबे विकास का चचेरा भाई था और प्रेम शंकर रिश्ते में उसका मामा लगता था। आइजी ने अतुल के हिस्ट्रीशीटर और प्रेम शंकर के खिलाफ डकैती और हत्या के मुकदमे दर्ज होने की जानकारी दी।

प्रभात के एनकाउंटर स्थल पर भी की जांच

इसके बाद टीम दोपहर दो बजकर 20 मिनट पर न्यू ट्रांसपोर्ट नगर पनकी पहुंची, जहां प्रभात मिश्रा का एनकांउटर हुआ था। यहां 20 मिनट जांच और सवाल जवाब हुए। गाड़ी कहां खराब हुई? प्रभात गाड़ी में किस स्थान पर बैठा था? उसने फायङ्क्षरग की? वह किस ओर भागा? एसटीएफ ने बताया कि गाड़ी की पिछली सीट पर बीच में था। गाड़ी खराब होने पर उसे नीचे उतारा गया। मौके का फायदा उठा वह चौबेपुर एसआई देवेंद्र ङ्क्षसह की पिस्टल छीनकर हाईवे पार करते हुए सामने की ओर भागा। दो राउंड फायङ्क्षरग की, जिसमें दो पुलिसकर्मी घायल हुए। पानी की टंकी की ओर पहुंचने पर खुद को घिरता देख प्रभात ने फिर फायरिंग की। जवाबी कार्रवाई में वह मारा गया।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy