Cover

सैय्यद जफर इस्लाम निर्विरोध निर्वाचित, भाजपा के सातवें मुस्लिम सांसद

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के अमर सिंह के निधन से रिक्त राज्यसभा की सीट पर भारतीय जनता पार्टी के नेता सैय्यद जफर इस्लाम निर्विरोध निर्वाचित हो गए हैं। भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश के महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला के नाम वापस लेने के बाद उनका निर्विरोध निर्वाचन हो गया है। इनका कार्यकाल नवंबर 2022 तक रहेगा।

समाजवादी पार्टी के नेता अमर सिंह के निधन ने उत्तर प्रदेश से राज्यसभा की रिक्त एक सीट पर होने वाले उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी के सैय्यद जफर इस्लाम को निर्विरोध रूप से निर्वाचित घोषित कर दिया गया है। प्रदेश के वित्त, संसदीय कार्य एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश कुमार खन्ना की उपस्थिति में विधानसभा के पुरुषोत्तम दास टंडन हाल में विशेष सचिव विधानसभा एवं निर्वाचन अधिकारी बृज भूषण दुबे ने निर्वाचित होने का प्रमाण पत्र जफर इस्लाम के अधिकृत प्रतिनिधि जेपीएस राठौर को प्रदान किया गया।

सैय्यद जफर इस्लाम की ओर से नामांकन करने वाले प्रदेश के वित्त, संसदीय कार्य तथा चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश कुमार खन्ना के साथ भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष व विधान परिषद सदस्य विजय बहादुर पाठक एवं जफर इस्लाम के अधिकृत प्रतिनिधि जेपीएस राठौर ने इस्लाम का निर्वाचन पत्र प्राप्त किया।

निर्वाचन अधिकारी बृज भूषण दुबे ने बताया कि निर्वाचन के लिए प्रत्याशियों के नामांकन पत्र के नाम वापसी का आज अंतिम दिन था। उन्होंने बताया कि गोविंद नारायण ने अपना नाम वापस ले लिया था। गोविंद नारायण के नाम वापस लेने के उपरांत राज्यसभा निर्वाचन के लिए सैय्यद जफर इस्लाम को एकमात्र प्रत्याशी होने के कारण निर्विरोध रूप से निर्वाचित घोषित कर दिया गया। दुबे ने बताया कि अमर सिंह के निधन के बाद रिक्त राज्यसभा सीट के लिए निर्वाचन के लिए भाजपा के सैय्यद जफर इस्लाम व गोविंद नारायण तथा एक अन्य निर्दलीय प्रत्याशी महेश चंद शर्मा ने अपना नामांकन कराया था। उन्होंने बताया कि महेश चंद शर्मा का नामांकन पत्र कोई प्रस्तावक ना होने के कारण खारिज कर दिया गया था, जबकि गोविंद नारायण ने अपना नाम वापस ले लिया था।

मध्य प्रदेश के कद्दावर नेता तथा भाजपा से राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया के बेहद सैय्यद जफर इस्लाम ने सात वर्ष पहले भाजपा की सदस्यता ग्रहण की थी। उत्तर प्रदेश से भाजपा ने उनको राज्यसभा भेजा है। कोरोना संक्रमण से पीड़ित सैय्यद जफर इस्लाम नई दिल्ली के एम्स में भर्ती हैं। उनका नामांकन उत्तर प्रदेश के संसदीय कार्यमंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने किया। इसके बाद भाजपा ने प्रदेश महामंत्री गोविंदनारायण का भी नामांकन कराया था। गोविंद नारायण के आज नाम वापसी के अंतिम दिन पर्चा वापस लेने के बाद सैय्यद जफर इस्लाम का निर्विरोध निर्वाचन हो गया है।

सैय्यद जफर इस्लाम भाजपा के प्रवक्ता और मीडिया के लिए जाना-माना चेहरा हैं। उन्होंने मध्य प्रदेश के दिग्गज ज्योतिरादित्य सिंधिया को कांग्रेस से लाकर भाजपा में शामिल होने की सभी प्रक्रियाओं को बेहद सुगम बनाया था। राजनीति में आने से पहले सैय्यद जफर इस्लाम एक विदेशी बैंक के लिए काम किया करते थे। वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रभावित होकर भाजपा में शामिल हुए थे।

भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता और ड्यूश बैंक के पूर्व इंवेस्टमेंट बैंकर सैय्यद जफर इस्लाम ने ज्योतिरादित्य सिंधिया पार्टी में लाने के लिए पटकथा लिखी थी। जफर लगातार सिंधिया और अपनी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के बीच किसी सेतु की तरह काम कर रहे थे। वहीं भाजपा भी जफर और उनकी निर्णय क्षमता पर यकीन करते हुए धीरे-धीरे आगे बढ़ रही थी।

सैय्यद जफर इस्लाम भाजपा के सातवें मुस्लिम सांसद

उत्तर प्रदेश में राज्यसभा की खाली सीट पर निर्विरोध निर्वाचित सैय्यद जफर इस्लाम भारतीय जनता पार्टी के सातवें मुस्लिम सांसद हैं। वह पिछले सात वर्ष से भाजपा ने जुड़े हुए हैं। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता सैय्यद जफर इस्लाम से पहले मुख्तार अब्बास नकवी, शहनवाज हुसैन, आरिफ बेग, एमजे अकबर, नजमा हेपतुल्ला तथा सिकंदर बख्त भाजपा के सांसद थे। सिकंदर बख्त, एमजे अबकर, नजमा हेपतुल्ला के बाद तथा सैय्यद जफर इस्लाम चौथे मुस्लिम हैं, जिनको भारतीय जनता पार्टी ने राज्यसभा में भेजा है। फिलहाल तो सैय्यद जफर इस्लाम व मुख्तार अब्बास नकवी राज्यसभा में भाजपा से मुस्लिम सांसद हैं। भाजपा के टिकट पर मुख्तार अब्बास नकवी, शहनवाज हुसैन और आरिफ बेग ही लोकसभा का चुनाव जीत सके हैं। डॉ. सैय्यद जफर इस्लाम झारखंड के रहने वाले हैं और मुंबई में सक्रिय रहे हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy