Cover

शिवसेना के खिलाफ कंगना का मोर्चा, आज करेंगी राज्यपाल से मुलाकात

मुंबई। अपने कार्यालय में तोड़फोड़ के बाद शिवसेना पर बरसने वाली कंगना रनोट (Kangana Ranaut) आज शाम करीब साढ़े चार बजे राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) से मुलाकात करेंगी। कंगना मुंबई से रवाना होने से पहले उन्हें वस्तुस्थिति से अवगत कराएंगी। सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) मामले की जांच में मुंबई की तुलना गुलाम कश्मीर से करने के बाद से ही कंगना और शिवसेना के बीच टकराव जारी है।

केंद्रीय मंत्री और आरपीआइ अध्यक्ष रामदास आठवले ने शुक्रवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात करके कंगना को मुआवजा दिए जाने की मांग की थी। रामदास आठवले ने कंगना रनौत के दफ्तर पर बीएमसी की कार्रवाई को गलत ठहराया था। साथ ही उन्होंने कंगना के आवास पर जाकर उनसे मुलाकात भी की थी।

इस मामले में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी पहले ही इस मामले को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। उन्होंने इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के प्रमुख एडवाइजर अजॉय मेहता को तलब भी किया था। मिल रही जानकारी के अनुसार राज्यपाल इस पूरे विवाद पर एक रिपोर्ट तैयार कर उसे केंद्र को भेजने वाले हैं।

कंगना के निशाने पर सोनिया गांधी

कंगना शिवसेना के खिलाफ लगातार मोर्चा खोले हुए हैं। इससे पहले अपने कार्यालय में हुई तोड़फोड़ से आक्रोशित कंगना ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को निशाने पर लिया था। कंगना ने ट्विटर पर लिखा, आदरणीय कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी जी, क्या एक महिला होने के नाते महाराष्ट्र में आपकी सरकार द्वारा मेरे साथ हो रहे बर्ताव पर आपको तकलीफ नहीं हुई? आप पश्चिम में पली-बढ़ी हैं। आप भारत में रहती हैं। आप महिलाओं के संघर्ष से अवगत होंगी। आपकी चुप्पी और उपेक्षा को इतिहास जज करेगा। आपकी खुद की सरकार महिलाओं का उत्पीड़न कर रही है और कानून-व्यवस्था का मजाक बना रही है। मुझे उम्मीद है कि आप हस्तक्षेप करेंगी।

दाऊद का घर तोड़ने नहीं जाते: फड़नवीस

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फ़़डनवीस ने कंगना मामले को तूल देने के लिए शिवसेना को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा, महाराष्ट्र सरकार को ऐसा लगता है कि उनकी ल़़डाई कोरोना से नहीं, बल्कि कंगना से है। आपने उसका कार्यालय तोड़ा। अब किस शिवसेना नेता का घर अवैध है, यह बात बाहर आ रही है। आप अंडरव‌र्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का घर तोड़ने नहीं जाते हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy