Cover

सपने में देखा नाग तो नागिन बन गई युवती !, हजारों लोगों की मौजूदगी में रचाई शादी

छिंदवाड़ा: छिंदवाड़ा जिले की परासिया तहसील के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत धमनिया गांव में रहने वाली गीता (बदला हुआ नाम) का दावा है कि वह नागकन्या है। उसके सपने में नाग देवता आए और कहा कि मुझसे शादी करो। हैरानी का बात यह कि युवती दुल्हन बनकर मंदिर पहुंची और नागिन की तरह लहराने लगी। महिला की इस दावे की खबर आग की तरह आस पास के इलाके में फैल गई। हजारों की तादात में लोग तमाशा देखने पहुंच गए। हालांकि वहां नाग देवता नहीं पहुंचे और युवती ने खुद ही अकेले मंडप में शादी रचाई।

दरअसल, छिंदवाड़ा के धमनिया गांव की एक युवती का दावा है कि उसके सपने में नाग देवता आए थे और वह शादी रचाने की बात कर रहे थे। हजारों लोगों इस घटना को देखने के लिए इकट्ठा हो गए थे। युवती दुल्हन बन कर नाग देवता से शादी रचाने के लिए तैयार थी। युवती का दावा था कि तुम लोग शांत हो जाओ, मेरे पति खुद यहां आएंगे। इस दौरान युवती सुहाग के लाल जोड़े में नागिन की तरह लहराती रही। इस सारे घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। हालांकि पंजाब केसरी इस प्रकार के अंधविश्वास का समर्थन नहीं करता।

लोग दिन भर करते रहे नाग का इंतजार
धमनिया गांव की युवती लगातार कह रही थी कि वो(नाग) मुझसे शादी करना चाहते हैं और जरुर आएंगे। इसके बाद दुल्हन के रूप में युवती गांव स्थित एक मंदिर के पास पहुंच गई और नागिन की तरह लहराने लगी। युवती को एक महिला पकड़ कर खड़ी थी। गांव की युवती नाग देव से शादी करने जा रही है, इस बात की खबर आसपास के इलाकों में आग की तरह फैल गई। युवती के मंदिर पहुंचते ही हजारों लोग इस तमाशे को देखने के लिए वहां पहुंच गए।

सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां
अंधविश्वास के इस तमाशे को देखने के लिए आज पास के गांवों के हजारों लोग पहुंचे। कोरोनाकाल के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की जम कर धज्जियां उड़ीं। लोग चिलचिलाती धूप में नाग नागिन की शादी देखते का इंतजार करते रहे। वहीं, युवती अलग-अलग दावे करती रही। दुल्हन बनीं युवती घंटों मंदिर परिसर में नाग देव के आने का इंतजार करती रही। लोग जब उससे पूछते कि वह कब आएंगे। युवती बस यहीं जवाब देती थी कि आप लोग शांत हो जाइए, वो आ जाएंगे। बीच-बीच में वह मंदिर परिसर से निकल कर सड़क की तरफ जाती थी। कहती थी कि वो आ रहे थे, लेकिन लोग रास्ते काट रहे हैं।

शादी का मंडप भी सजा
हद तो तब हो गई जब युवती के लिए घर वालों ने उसके लिए मंडप भी तैयार करवा दिया। लगातार लोगों की भीड़ यह इंतजार करती रही कि नाग देवता कन्या से विवाह करने के लिए कब आएंगे। लेकिन ना ही नाग देवता आए और न ही कोई चमत्कार हुआ। आखिर में कन्या ने अग्नि को साक्षी मानकर अकेले ही सात फेरे ले लिए हालांकि वह अभी भी अपने दावे पर कायम थी। वही लोग मायूस होकर घरों को लौट गए।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy